EV Charging Station कैसे खोले | EV Charging Station Kaise Khole

क्या आप ev charging station लगवाना चाहते है ? तो ये ARTICLE आपके लिए बेहद उपयोगी है | इस article बताएंगे की EV Charging Station Kaise Khole ,  इलेक्ट्रिक चार्जर क्या होता है ? कितने प्रकार का होता है ? इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन कैसे लगाये ?  तो इस article को पूरा पढिये और अंत में comment कर जरुर बताये की आपको जानकारी कैसी लगी |   

प्रदूषण और पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों को देख लोगों में इलेक्ट्रिक वाहनों की और रूचि बढ़ रही है भारत सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों पर जीएसटी घटाकर 15% से केवल 5% कर दी है इस तरह देखा जाए तो  भारत सरकार इलेक्ट्रिक कारों को प्रमोट कर रही है। इंडियन मार्केट मे 2023 तक इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री 11 लाख से एक करोड़ हो सकती है और 2030 तक  3 करोड इलेक्ट्रिक वाहनों का लक्ष्य रखा है।

कुछ सालों में हमें इलेक्ट्रिक वाहन हर जगह दौड़ते नजर आएंगे लेकिन हम जानते हैं जैसे  इंधन वाले वाहनों के लिए इंधन की आवश्यकता होती है उसी प्रकार इन इलेक्ट्रिक वाहनों को चलाने के लिए बिजली की आवश्यकता होती है।

 इस प्रकार इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या बढ़ने के साथ – साथ उन्हें चार्ज करने के लिए चार्जिंग स्टेशन की भी मांग बढ़ेगी । तो हम यंहा कह सकते है चार्जिंग स्टेशन लगाना फ्यूचर के लिए काफी profitable बिजनेस हो सकता है | आने वाले वर्षों में ईवी चार्जिंग स्टेशन वैश्विक बाजार पर कब्जा करने वाला हैं।

 इसलिए आज हम आपको यहां बताएंगे कि आप अपना इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन कैसे लगा सकते हैं ?  और कैसे अपना खुद का चार्जिंग स्टेशन लगाकर मोटा मुनाफा कमा सकते हैं? EV Charging Station Kaise Khole ?

इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन क्या है?

EV Charging Station Kaise Khole
EV Charging Station कैसे खोले | EV Charging Station Kaise Khole

जैसे डीजल, पेट्रोल, सीएनजी वाले वाहनों के लिए उनमें पेट्रोल, डीजल भरने के लिए जगह-जगह पेट्रोल पंप लगे होते हैं वैसे इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने के लिए उन्हें चार्जिंग पॉइंट की जरूरत होती है और यही चार्जिंग पॉइंट चार्जिंग स्टेशन कहलाते हैं |

किसी इलेक्ट्रिक वाहन को चलाने के लिए उसमें एक  बड़ा बैटरी पैक होता है जिसे पावर देने के लिए हम उसे चार्ज करते हैं जिसके लिए बिजली की आवश्यकता होती है।

इलेक्ट्रिक वाहनों को हम दो तरह से चार्ज कर सकते हैं-

     (a). AC ( Alternate Current)  Charging    

 (b). DC ( Direct Current) Charging

 भारत की बात करें तो वर्तमान में यहां बहुत कम  EV charging station है लेकिन भविष्य की मांग को ध्यान में रखते हुए भारत में चार्जिंग स्टेशनों पर काम शुरू हो चुका है।

चार्जर के प्रकार

 दोस्तों जिस प्रकार वर्तमान में हम अपने मोबाइल को फास्ट चार्ज व स्लो चार्ज करते हैं उसी प्रकार हम अपने Electric Cars को भी दो प्रकार से चार्ज कर सकते हैं।

(1). AC charging (slow charging) | धीमी गति से चार्ज

        Electric Car Charging में AC चार्जिंग एक साधारण विधि है। जब हम Electric Car को चार्ज करने के लिए उसके AC प्लग में प्लग करते हैं तो कार उस AC करंट को इनवर्टर में भेजती है जहां से वह DC में कन्वर्ट हो जाती है और इस करंट को बैटरी में store कर लिया जाता है। AC को DC में परिवर्तित करने की वजह से चार्जिंग में समय अधिक लगता है।

AC चार्जिंग को दो प्रकार की होती है –

EV Charging Station कैसे  खोले | EV Charging Station Kaise Khole
EV Charging Station Kaise Khole

 Level 1 और level 2

  • AC Level-1  =  इसमें चार्जर 15 amp के वॉल सॉकेट पर काम करते हैं  इस प्रकार के चार्जर से चार्ज करने में लगभग 10 से 12 घंटे लगते हैं।

(ii)  AC level-2 =  इसमें चार्जिंग AC चार्जिंग बॉक्स से होती है जो Electric Car के साथ ही आते हैं। इस प्रकार के चार्जर से चार्ज करने पर लगभग 2 से 4 घंटे लगते हैं। इन चार्जर की मदद से आप अपने इलेक्ट्रिक वाहन को घर पर ही चार्ज कर सकते हैं।

(2). DC charging (fast changing)

        Electric Car Charging में फास्ट चार्जिंग के लिए DC प्लग होता है DC चार्जिंग के माध्यम से बिजली सीधी कार की बैटरी में store हो जाती है इसमें किसी भी प्रकार का रूपांतरण नहीं होता जिससे बैटरी कम समय में तेज गति से चार्ज हो जाती है। DC चार्जिंग में कार DC  current को इनवर्टर में ना भेज कर सीधे बैटरी में जमा करती है जिससे कार को चार्ज होने में कम समय लगता है और कार तेज गति से चार्ज होती है।

 DC चार्जिंग के लिए बहुत अधिक पावर की आवश्यकता होती है इसलिए सामान्यत यह घरों या व्यवसाय के स्थानों पर यह नहीं पाए जाते इस प्रकार के चार्जिंग स्टेशन हमें ज्यादातर राजमार्गों पर देखने को मिलते हैं।

    DC चार्जिंग को फास्ट चार्जिंग के तौर पर level-3 के रूप में रखा गया है।

EV Charging station के लिए आवश्यक उपकरण व सुविधाएँ

ev चार्जिंग स्टेशन लगाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण उपकरणों एवम कुछ बुनियादी सुविधाओं की आवश्यकता होती है | जैसे –

EV Charging Station कैसे  खोले | EV Charging Station Kaise Khole
EV Charging Station कैसे खोले | EV Charging Station Kaise Khole
  • ev चार्जिंग स्टेशन लगाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण उपकरणों एवम कुछ बुनियादी सुविधाओं की आवश्यकता होती है | जैसे –
  • कम से कम 3 AC charger  व  2 DC चार्जर  चार्जर  iso द्वारा प्रमाणित होने चाहिए |
  • एक एक्सक्लूसिव ट्रांसफॉर्मर की आवश्यकता होगी करंट डिस्ट्रीब्यूशन के लिए  ।
  • सिविल कार्य अच्छा दिखाना चाहिए | कंस्ट्रक्शन काफी अच्छा होना चाहिए सुंदर दिखना चाहिए। फ्लोरिंग में पेंटिंग अच्छी होनी चाहिए
  • सीसीटीवी लगे होनी चाहिए ।
  • रोड पर दो या तीन वाहनों के खड़े होने की जगह होनी चाहिए ताकि वह आसानी से पढ़ो पर चार्ज हो सके।
  • पर्याप्त पार्किंग स्थान।
  • सभी आवश्यक सुरक्षा उपकरण लगाना अनिवार्य है ।
  • पर्याप्त पार्किंग स्थान।
  • सभी आवश्यक सुरक्षा उपकरण लगाना अनिवार्य है ।
  •   मीटर और सब मीटर |
  •   technician और helper |
  •   स्वच्छ पीने के पानी की सुविधा |
  •   टॉयलेट की सुविधा |

चार्जिंग स्टेशन की फ्रेंचाइजी देने वाली कम्पनियां

इलेक्ट्रिक व्हीकल (ईवी) चार्जिंग कंपनियां लगातार बढ़ रही हैं। बहुत सी कंपनियां चार्जिंग स्टेशन उपलब्ध करवाती है और अपनी फ्रंचैजी देती है | कोई भी व्यक्ति चार्जिंग स्टेशन की फ्रेंचाइजी के लिए आवेदन कर सकता है।

  • TATA Power
  • Delta Electronics India
  • Evolt
  • ACME
  • ENSTO
  • Panasonic
  • Exicom
  • Fortum India
  • Volttic – Parent Company Tvesas
  • Evcharz
  • Mass-Tech

EV Charging station की लागत

इलेक्ट्रिक वाहनों की बैटरी चार्ज करने के लिए बिजली के ट्रांसमिशन, वितरण या व्यापार के लिए अलग से किसी प्रकार के लाइसेंस की आवश्यकता नहीं है

EV Charging Station लगाने की लागत में केवल सेट अप लागत शामिल है जिसमें चार्जर, light , software , बुनियादी ढांचे, विज्ञापन, जनशक्ति और रखरखाव की लागत शामिल है। 

नए बिजली कनेक्शन, सिविल कार्यों, तकनीशियनों और कर्मचारियों, रखरखाव, विज्ञापन, प्रचार, ईवीएसई प्रबंधन सॉफ्टवेयर और एकीकरण, और भूमि पट्टे (यदि कोई हो) की लागत को कवर किया जाये तो EV Charging Station लगाने की औसतन लागत 1 लाख से 30 लाख तक हो सकती है |

यह चार्जर के संख्या और प्रकार निर्भर करती है |

सरकार द्वारा जारी ने दिशा-निर्देश

सरकार द्वारा जारी ने दिशा-निर्देशो के अनुसार शहरों में प्रत्येक 3 km पर और राष्ट्रीय राजमार्गों पर 25 km पर ईवी चार्जिंग स्टेशन स्थापित करना अनिवार्य कर दिया गया है। 

लेकिन व्यावहारिक रूप से, हमारे बुनियादी ढांचे में आवश्यक ईवी चार्जिंग स्टेशनों का 1% भी नहीं है। 

साथ ही, भारत सरकार ने कंपनियों से आमंत्रित की हैं क्योंकि उसकी वर्ष 2023 तक 1000 से अधिक ईवी चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने की योजना है। EV Charging Station Kaise Khole?

चार्जिंग स्टेशन कहां खोले जा सकते हैं?

1 शॉपिंग मॉल, कांप्लेक्स, मल्टीप्लेक्स, सिनेमा हॉल, आदि स्थानों पर चार्जिंग स्टेशन खोले जा सकते हैं

2  पार्किंग पैलेस में भी चार्जिंग स्टेशन लगाए जा सकते हैं।

3.पेट्रोल पंप पर भी चार्जिंग कैसे लगा सकते हैं |

EV Charging Station Kaise Khole

EV charging station खोलने के लिए किसी प्रकार की कोई व्यवसायिक लाइसेंस की आवश्यकता नहीं पड़ती है इसके लिए कोई व्यक्ति आवेदन कर सकता है । बस वह विद्युत मंत्रालय द्वारा निर्धारित मापदंड का पालन करना होगा |

इस प्रकार, खुद का इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन खोलने के लिए आप सीधे इंडिया की विद्युत मंत्रालय (मिनिस्ट्री ऑफ पावर डिपार्टमेंट) के पास अप्लाई कर सकते हैं। आप चाहे तो किसी इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन की फ्रेंचाइजी देने वाली कंपनी से  फ्रेंचाइजी ले करके भी इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन लगा सकते हैं |

EV Charging Station subsidy

गवर्नमेंट के द्वारा इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन पर सब्सिडी दी जा रही है | तकरीबन 1050 करोड रुपए का बजट गवर्नमेंट ने सब्सिडी के लिए तय किया है । यह सब्सिडी दो प्रकार से दी जाती है | (a) राज्य वार (b) केंद्र वार

3 thoughts on “EV Charging Station कैसे खोले | EV Charging Station Kaise Khole”

Leave a comment