Importance of EV Batteries | इलेक्ट्रिक वाहनों में बैटरी की मुख्य भुमिका

विश्व भर में इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति रुझान बढ़ता जा रहा है। साथ ही साथ भारत में भी इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति लोग अपनी दिलचस्पी दिखा रहे हैं।आज यह कहना गलत नहीं होगा कि आने वाला समय या भविष्य इलेक्ट्रिक वाहनों का होगा और इन वाहनों का भविष्य इन्हीं में लगी बैटरी  तय करेगी।इलेक्ट्रिक वाहनों को चलाने का मुख्य स्त्रोत EV Batteries होती है जो इन में लगी मोटर को पावर प्रदान करती है जिससे वाहन को गति मिलती है।

 इलेक्ट्रिक वाहन में बैटरी इंजन का काम करती है  इन बैटरी को विद्युत द्वारा ऊर्जा प्रदान की जाती है इन वाहनों में लगी बैटरी वाहन की गति व परास को निर्धारित करने का काम करती है। अर्थात किसी इलेक्ट्रिक वाहन का मुख्य भाग उसकी बैटरी ही होती है EV Batteries की क्षमता व गुणवत्ता जितनी अधिक होगी वाहन की क्षमता व गुणवत्ता उतनी ही बढ़ जाएगी अतः किसी इलेक्ट्रिक वाहन में उसकी बैटरी सबसे अहम हिस्सा या भाग होता है।

 आज हम यहां इन EV Batteries के बारे में बताने जा रहे हैं इनकी बैटरी से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें हम यहां साझा करेंगे।

EV बैटरी क्या है | What is EV Battery?

हम सब रोजमर्रा की जिंदगी में किसी ना किसी प्रकार से बैटरी का इस्तेमाल करते हैं चाहे वह लैपटॉप की बैटरी हो या फोन में लगी बैटरी हो तथा अन्य कई प्रकार से जैसे रिमोट में घड़ी में आदि में  हम रोज बैटरी का इस्तेमाल करते हैं उसी तरह की ही बैटरी हम इलेक्ट्रिक वाहनों में इस्तेमाल करते हैं बस फर्क इतना है कि यह अधिक मात्रा में बैटरीयो का सेट होता है जिसे जोड़कर बैटरी पैक बना दिया जाता है।

 इन बैटरी को भी हम लैपटॉप या फोन की बैटरी की तरह चार्ज करते हैं लेकिन बैटरी की क्षमता ज्यादा होने से इन्हें चार्ज करने में समय अधिक लगता है लेकिन आजकल बढ़ती टेक्नोलॉजी के कारण इन्हें भी फास्ट चार्ज करने की सुविधा उपलब्ध है।

EV में काम आने वाली बैटरी

    EV Batteries के इस्तेमाल पर नए नए शोध हो रहे हैं इन बैटरी का समय के साथ साथ प्रयोग बदलता जा रहा है रोज रोज नई टेक्नोलॉजी से बैटरी का आकार क्षमता व गुणवत्ता में परिवर्तन किया जा रहा है इसी क्रम में हम इन बैटरी से जुड़ी जानकारी साझा कर रहे हैं।

लेड एसिड EV Batteries

  यह बैटरी वजन में अधिक व लागत में कम होती है इनका वजन अधिक होता है जो वाहन की गति पर प्रभाव डालता है हालांकि यह बैटरी सस्ती होती है इस बैटरी को समय-समय पर रखरखाव की आवश्यकता होती है इनका जीवन काल कम होता है अगर आप इन्हें लगातार इस्तेमाल करेंगे तो इनका जीवनकॉल लगभग 2 से 3 साल तक होगा यह बैटरी चार्ज होने में 6 से 8 घंटे लेती है लेड एसिड युक्त स्कूटर सस्ता होता है इनकी परास क्षमता कम होती है।

EV Batteries
लेड एसिड EV Batteries

लिथियम आयन EV Batteries

 इस बैटरी को आधुनिक बैटरी भी कहा जाता है इसकी वजह यह है कि यह वजन में हल्की व आकार में कम होती है जो वाहन में जगह का घेराव कम करती है और वाहन को हल्का बनाती है जिससे उसकी गति व परास क्षमता उच्च होती है इस प्रकार की बैटरी आजकल सभी फोन में लैपटॉप में पाई जाती है इन बैटरी का प्रयोग इलेक्ट्रिक वाहन में बढ़ता जा रहा है जिसका कारण यह है कि इनकी रेंज अधिक और चार्जिंग में कम समय लगता है लगभग 2 से 4 घंटे का समय।

लिथियम आयन EV Batteries

लेड एसिड बैटरी की तुलना में इन्हें बहुत कम रखरखाव की आवश्यकता पड़ती है परंतु इन बैटरी की कीमत अधिक होती है। जिसके कारण इस बैटरी से युक्त वाहनों की कीमत अधिक होती है इन बैटरी का जीवनकाल भी अधिक होता है इन बैटरी का इस्तेमाल भी काफी सुविधाजनक है।

सोडियम आयन EV Batteries

        इस प्रकार की बैटरी अभी बाजार में उपलब्ध नहीं है लेकिन चीन की बैटरी निर्माता कंपनी CATL ने सोडियम आयन बैटरी का पदार्पण कर दिया है आपको बता दें कि यह कंपनी दुनिया की सबसे बड़ी बैटरी निर्माता कंपनियों में से एक है।

सोडियम आयन EV Batteries

 सोडियम आयन बैटरी लिथियम आयन बैटरी का विकल्प मानी जा रही है यह बैटरी जल्दी चार्ज वह लंबे समय तक चलने में सक्षम होगी इसका जीवनकाल भी लिथियम आयन बैटरी की तुलना में कई अधिक होगा। सोडियम की तुलना लिथियम के भंडार भी कम है इसलिए सोडियम आयन बैटरी का भविष्य उज्जवल है।

इलेक्ट्रिक कारों में कैसे काम करती है बैटरी |

EV Batteries

इलेक्ट्रिक कारों में इंधन वाली कारों की तरह इंटरनल कंबयूशन इंजन नहीं होता है इलेक्ट्रिक कार फ्यूल सेल से चलती है जो लिथियम आयन वह हाइड्रोजन से बिजली उत्पन्न करते हैं सभी सेल्स में पॉजिटिव इलेक्ट्रोड होते हैं जिनमें लिथियम व कोबाल्ट की मात्रा ज्यादा होती है इन सेल्स में नेगेटिव इलेक्ट्रोड भी मौजूद होते हैं जिनमें ग्रेफाइट की मात्रा अधिक होती है इन सेल्स के इलेक्ट्रोड के मध्य एटम्स प्रक्रिया होती है जिससे गाड़ी की मोटर को ऊर्जा या पावर मिलती है जिससे गाड़ी गति करती है।

EV Batteries का जीवनकाल

 इलेक्ट्रिक वाहनों में वर्तमान में दो तरह की EV Batteries काम में ली जा रही है एक लेडी सेट बैटरी वह दूसरी लिथियम आयन बैट्री इन दोनों का ही जीवन चक्र वह क्षमता अलग अलग है इनके जीवन चक्र की तुलना हम इस प्रकार कर सकते हैं।

Comparison b/w Laid Acid Battery And Lithium Ion Battery

  Laid Acid BatteryLithium-ion Battery
1Efficiency70%96%
2Charging Time6h to 8h3h to 4h
3Energy Dencity30w/h to 40w/h100w/h to 265w/h
4Weight1kwh =15kg to21 kg1kwh = 5kg to 8 kg
5Warranty1 year to 2 years3 years to 5 years
6Range75,000km1 lakh to 1.5 lakhs
7Price8000 to 10,000/kwh18,000 to 20,000/kwh
8RecyclingyesNo

इलेक्ट्रिक वाहनों की बैटरी का रखरखाव

(1) EV Batteries को ना तो फुल चार्ज(100%) करें ना ही पूरा डिस्चार्ज(0%)इससे बैटरी की क्षमता का हास होता है अधिक आवश्यक होने पर ही बैटरी पूरी चार्ज करें।

(2)EV Batteries को बार-बार तीव्र गति से चार्ज ना करें इससे बैटरी को क्षति पहुंचती है और उसका जीवन काल कम हो जाता है जरूरी हो तो ही तीव्र चार्ज का इस्तेमाल करें।

(3) समय-समय पर EV Batteries की जांच कराते रहना चाहिए जिससे उसकी क्षमता व परास का पता चलता रहे।

(4) अपने EV Batteries को अधिक गर्म होने से बचाए रखें ज्यादा लंबी दूरी तय करते समय बीच में वाहन की बैटरी को कूल डाउन होने के लिए समय देना चाहिए।

(5) अपनी इEV Batteries को बार-बार चार्ज ना करें व बार-बार डिस्चार्ज होने से बचाए इससे बैटरी पर प्रभाव पड़ता है।

(6) अपने इलेक्ट्रिक वाहन को गर्मियों में ज्यादा देर धूप में खड़ा ना करें इससे उसकी बैटरी गर्म हो सकती है और बैटरी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

(7) EV Batteries की जांच करते समय सेफ्टी किट का प्रयोग करें तथा हाथों में रबर ग्लव्स आंखों पर चश्मा अवश्य पहने।

(8) EV Batteries को अधिक समय तक डिस्चार्ज ना रखें इससे बैटरी के जल्दी खराब होने का अंदेशा रहता है।

(9) अपने इलेक्ट्रिक वाहन को समय अंतराल पर काम लेते रहना चाहिए उससे अधिक समय तक एक जगह खड़ा नहीं रखना चाहिए इससे उसके बैटरी क्षमता प्रभावित होती है।

(10) अपने इलेक्ट्रिक वाहन को पानी से भरी जगह पर चलाने से बचना चाहिए तथा बरसात के मौसम में पानी से भरी जगहों पर वाहन नहीं चलाना चाहिए इससे उसके बैटरी को खतरा रहता है।

इलेक्ट्रिक कार में कौन सी बैटरी होती है?

इलेक्ट्रिक कारों में वर्तमान में दो तरह की बैटरी काम मे ली जा रही है।  एक लेड एसिड बैटरी दूसरी लिथियम आयन बैटरी। लेड एसिड बैटरी सस्ती व लिथियम आयन बैटरी महंगी होती है लेड एसिड बैटरी की तुलना में लिथियम आयन बैटरी की गुणवत्ता व क्षमता अच्छी होती हें

इलेक्ट्रिक वाहन की बैटरी की कीमत कितनी होती है?

इलेक्ट्रिक वाहन की बैटरी की कीमतें उनकी गुणवत्ता व क्षमता पर निर्भर करती है लेड एसिड बैटरी 15 kwh की कीमत लगभग 1.5 लाख होती है वही लिथियम आयन बैटरी 15 kwh की कीमत लगभग 2.5 लाख होती है।

EV बैटरी कितने साल तक चलती है?

एक इलेक्ट्रिक वाहन की बैटरी सामान्यतः 3 से 5 साल तक चलती है। आजकल कंपनियां 6 से 8 साल तक बैटरी वारंटी दे रही है बैटरी की रेंज 1.50 लाख व 6 से 8 साल इन दोनों में एक विकल्प की वारंटी दे रही है।

Leave a comment